भारतीय बजट व्यवस्था – (Indian Budget)

जय हिन्द दोस्तो ,  स्वागत है आप सभी का The Guru Shala  पर आज हम आपको भारतीय बजट व्यवस्था – (Indian Budget) बताने जा रहे हैं , जो की Complete Topic Wise   रहेगा जिसमे  हम  आपको  Topic  complete  होने  पर उस Topic के  Importent MCQ देगे  जिसका  आने बाले सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में पूंछे जाने की पूरी पूरी संभावना है ! तो आप सभी से निवेदन है कि इसे अच्छे से पढिये और याद कर लीजिये !

बजट क्या है ?

  • बजट सरकार की आय.व्यय का एक विवरण पत्र होता है।
  • जिसमें सरकार की गतबर्ष की आय.व्यय की स्थिति, चालू बर्ष की आय .व्यय की संषोधन का आकलन तथा आगामी बर्ष के लिए आय.व्यय के अनुमानित आकडे दर्शये जाते है।

बजट शब्द की उत्पत्ति:

  • बजट शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के Bulga से हुई, जिसका अर्थ है चमडे का थैला।
  • Bulga से  फ्रांसीसी शब्द Bouget की उत्पत्ति हुई।
  • जिसके बाद Bouget से अंग्रेजी शब्द Bogate अस्तित्व में आया जिसे आने वाले समय में Budget कहा जाने लगा।

भारतीय संविधान में उल्लेख:

  • भारतीय संविधान में बजट शब्द का उल्लेख नहीं है।
  • बजट शब्द के स्थान पर बार्षिकीय वित्तीय विवरण शब्द का उल्लेख है।
  • अनुच्छेद 112 में केन्द्रीय बार्षिकीय वित्तीय विवरण और अनुच्छेद 202 राज्कीय बार्षिकीय वित्तीय विवरण का उल्लेख किया गया है।

बजट का इतिहास:

  • 1773 में बिट्रिष प्रधानमंत्री राबर्ट वाल्पोल जो कि वित मंत्री भी थे देष की आर्थिक स्थिति का लेखा.जोखा एक चमडे के थेले में रखकर लाये थे, जिसे जादू का पिटारा नाम दिया गया।
  • राबर्ट वाल्पोल को बजट का प्रणेता या जनक कहा जाता है।
  • भारत में भी वर्तमान में यह प्रथा चल रही है कि जब तक बजट संसद में प्रस्तुत न कर दिया जाए तब तक उससे जुडें तथ्यों को गोपनीय रखा जाए।

भारतीय बजट का इतिहास: Indian Budget

  • 7 अप्रैल 1860 के दिन भारत में सर्वप्रथम बजट प्रस्तुत करने का श्रेय लार्ड केनिंग के कार्यकाल में कार्यरत एक वित्तीय सदस्य जेम्स विलसन को जाता है।
  • जेम्स विलसन को भारतीय बजट का प्रणेता या जनक भी कहा जाता है।

प्रमुख भारतीय वित्त मंत्री:

  • प्रथम भारतीय वित्त मंत्री:  लियाकत अली खाँ  भविष्य में पाकिस्तान के प्रथम प्रधानमंत्री भी बनें।
  • स्वतंत्र भारत के प्रथम वित्त मंत्री:  आर. के. शन्मुखम् चेट्टी पूरा नाम: रामासामी कंदासामी शन्मुखम् चेट्टी 26 नवंबर 1947: शन्मुखम् चेट्टी ने स्वतंत्र भारत का प्रथम बजट प्रस्तुत

किया।

  • गणतंत्र भारत के प्रथम वित्त मंत्री: जाॅन मथाई 28 फरवरी 1950: जाॅन मथाई द्वारा गणतंत्र भारत का प्रथम बजट प्रस्तुत किया गया।
  • सबसे ज्यादा बार बजट प्रस्तुत करने का श्रेय:  

 

  •  मोरारजी देसाई            10 बार                                  
  •  पलनिअप्पन चिदंबरम:  7 बार                            
  •  प्रणव मुखर्जी  :             7 बार
  • उपप्रधानमंत्री के रूप में सर्वाधिक बार बजट प्रस्तुत करने का श्रेय: मोरारजी देसाई
  • बजट प्रस्तुत करने वाली एक मात्र महिला वित्त मंत्री: इंदिरा गाॅधी
  • प्रधानमंत्री के रूप में बजट प्रस्तुत करने का श्रेय: जवाहर लाल नेहरू व इंदिरा गाँधी

भारतीय रेल बजट का इतिहास:

  • 1924: भारत में रेल बजट को आम बजट से प्रथक करने का परामर्ष “सर विलियम्स आक्वर्थ समिति“ द्वारा दिया गया।
  • 1925: भारत का प्रथम रेल बजट प्रस्तुत किया गया।

प्रमुख भारतीय रेल मंत्री:

  • भारत के प्रथम रेल मंत्री: आसफ अली खाँ 2 सितम्बर 1946 से 14 अगस्त 1947 तक
  • स्वतंत्र भारत के प्रथम रेल मंत्री: जाॅन मथाई      15 अगस्त 1947 से 22 सितम्बर 1948 तक
  • 26 नवंबर 1947: स्वतंत्र भारत का प्रथम रेल बजट जाॅन मथाई द्वारा प्रस्तुत किया गया।
  • गणतंत्र भारत के प्रथम रेल मंत्री: एन. जी. अय्यकर
  • गणतंत्र भारत का प्रथम बजट एन. जी. अय्यकर द्वारा प्रस्तुत किया गया।  पूरा नाम: नरसिम्हा गोपालस्वामी अय्यकर
  • रेल बजट प्रस्तुत करने वाली एक मात्र महिला रेल मंत्री: ममता बनेर्जी
  • अंतिम रेल बजट प्रस्तुत करने का श्रेय: सुरेष प्रभु
  • 1 फरवरी 2017: रेल बजट को आम बजट में विलय कर दिया गया।
  • रेल बजट का उद्देष्य: भारतीय रेल को पृथक रूप से बढावा देना
  • सयुक्त बजट का उद्देष्य: बजट के राजनैतिक प्रयोग से बचना एवं समय व पैसे का सद्उपयोग करना।
  • सर्वाधिक बार बजट प्रस्तुत करने का श्रेय:    
  • बाबू जगजीवन राम: 7 बार                                   
  • लालू प्रसाद यादव : 6 बार  Indian Budget

बजट प्रस्तुत करने के समय में परिवर्तन:

  • 1924 से 1999 तक: फरवरी के अंतिम कार्यकारी दिन शाम 5 बजे प्रस्तुत किया जाता था।
  • यह प्रथा सर बेसिल ब्लैकेट ने 1924 में प्रारंभ की थी।
  • कारण: रात भर जागकर वित्तीय लेखा.जोख तैयार करने वाले अधिकारियों को आराम प्रदान करना था।
  • 2000: प्रथम बार यषवंत सिन्हा ने सुबह 11 बजे बजट प्रस्तुत किया।

हलवा खाने की रस्म:

  • बजट छपने के लिए भेजे जाने से पूर्व वित्त मंत्रालय मे हलवा खाने की रस्म निभाई जाती है।
  • इस रस्म के बाद बजट प्रस्तुत होने तक सभी वित्त मंत्रालय से संबंधित अधिकारी किसी बाहरी व्यक्ति से संपर्क नहीं कर सकते है। सभी अपने परिवार से दूर वित्त मंत्रालय में निवास करते है। Indian Budget

आपके आने बाले Exams के लिये आप सभी को The Guru Shala की तरफ़ से All The Best ! और प्लीज इस Post को अधिक से अधिक Facebook व Whatsapp पर शेयर कीजिये

ALL GK TRICKS 

  GEOGRAPHY 

 

 

 

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *